Saturday, 25 January 2014

प्रणीते का त्रास !

अमावस में रजनीश का वनवास,
नील,नीरव, निरभ्र अकेला  आकाश.
भगजोगनियों संग भोगता प्रीत का रास
वसुधा पर ठिठुरती निशा  का वास
झिंगुरों का वक्र  परिहास
सर्द हवाओं का कुटिल अट्टाहास
शनैः शनैः सरकता शारदीय मास
फिर भी धरती की धुकधुकाती आस
कभी  तो मिलेंगे अपने चांद से
दूर क्षितिज के पास
पल पल दिल को दिलाये ये भास
काश, कोई  प्रणीते ना भोगे ये त्रास!
                   --------------- विश्वमोहन
                                      


मां

(२२जनवरी २०१४ , २२वीं पूण्य-तिथि. मां को समर्पित.)


गोद में तेरी पलकें खोली
ममतामयी मधु हास ठीठोली
पल पल बन मेरी हमजोली
प्रथम प्रतिश्रुति तेरी सुरत भोली

स्वर में नाद का दिया वरदान
तेरी छाती का दुग्ध पान.
वात्सल्य-वीथि का लोरी गान
सम्प्रेषण,आहरण अक्षर ज्ञान.

तू सृजन की सूत्रधार
किसलय पल्लव की पालनहार.
निराकार ब्रह्म तुममे साकार
तेरी महिमा मां अपरम्पार.

तेरा महाप्रयाण! जब मुझे छोड़
हाय! शुष्क हुआ करुणा का क्रोड़.
तेरा अभाव, निःशब्द भाव !
शापित अलगाव? न भरे घाव!

मां, टीस मिटे न मिटती है
तू सांस सांस मे बसती है.
नम नयन न किंचित सुखते हैं
दृग-जल रोके न रुकते हैं.

आच्छादित तेरी महिमा से
चंद्र, विश्व सब तेरी गरिमा से.
ऊर्जस्वित उर की हर धड़कन
बन शोणित का तू  कण-कण-कण.

बस अंतस में मेरी ज्योति
अब सपनों मे ही लोरी सुनाती.
अब भी मेरे अकेलेपन में
मुझे हंसाती,  मुझे रुलाती.


फिर प्यार के पीयुष पाग में
थपक थपक कर मुझे सुलाती.
मैया तेरी मीठी यादें
खींच अतीत को सम्मुख लाती.

मां, मैं भी जब थक जाऊंगा
जितना सकना है, सक जाऊंगा.
कालदूत कर मुझे निश्चेतन
ले जायेंगे तेरे ही सदन.

भूशायी होगा तन निष्प्राण
होगा महा अग्नि स्नान.
किंतु मन फिर भी करता होगा
तेरे मातृत्व का अमर पान.


मां तुझे प्रणाम , मां तुझे प्रणाम!

चांद फिर क्यूं रुठा है ?

आज चांद फिर क्यूं रुठा है,
अम्बर का तारक टूटा है.
या घोर घटा के घिर जाने से,
तारिकाओं  से तार छूटा है.

या अमावस के आने से,  
अंधेरे का घड़ा फूटा है.
अवनि से लेकर अंतरिक्ष तक,
काली रजनी ने सब लूटा है.

कल पुनम फिर आज अमावस,
इस चक्र-चिंतन में दम घुटा  है.
प्रकृति पुरुष परिवर्तन पर्व में,
ब्रह्म सत्य और सब झूठा है.

तब ! चांद  फिर क्यों रूठा है ?

         ---------- विश्वमोहन 

चंदा मामा के साथ चार दिन


चंदा मामा दूर  के,
बड़ी पकाये  गुड़  के,
अपने  खाये  थाली मे,
मुन्ने  को  दे  प्याली में.
.......... दादी मां की लोरिओं में अघाते और उंघते चंदा मामा कब मेरी कल्पनाओं के अंतस मे प्रवेश  कर  गये , मुझे पता भी न चला. वह पल पल मेरी पलकों पर मेरे हसरतों के पालने मे झूलते, मुझे सोते से जगाते, दादी मां के कौरों में अपनी चांदनी की  मीठास घोलते और मुझे मेरी चिंतन क्षमता की परिपक्वता का आभास दिलाते कि अब मै यह समझ चुका था कि वह धरती माता के भाई होने के नाते हम पृथ्वीवासियों के सगे मामा लगते हैं. दादी मां  ने  यह भी बता दिया था कि सुरज चंद्रमा के अग्रज हैं . अपनी मां को पीड़ा की तपन देने की सजा में सुरज तपते हैं और मां को सुख-स्नेह देने के आशीष स्वरुप चंद्रमा शीतलता व सौंदर्य का पीयुष परिधान  धारण करते हैं. बात जो भी हो अपने सांसारिक मामा में मुझे वो आकर्षण या निमंत्रण सामर्थ्य कभी बिम्बित  नही हुआ जो नील गगन के प्रशस्त प्रांगण मे निहारिकाओं से रास रचाते चंदा मामा की कमनीय कलाओं के कण कण में प्रतिक्षण प्रतिबिम्बित होता.
बाल सुलभ मन न केवल इस मामा से मिलने को आतुर रहता बल्कि अपने प्रतियोगी संस्कारों के कारण इस मिलन में अपने शेष मित्रों को पीछे छोड़ने का सपना पाले रहता.
ध्यायतो विषयान पुंसः....... गीता की इन पंक्तियों का मर्म मेरा बाल मन समझने लगा था. तथापि योगस्थ: कुरु कर्मणि की मुद्रा मे मेरी चंद्र-मिलन की कामनाओं ने घुटने नहीं टेके थे.
अब नील आर्मस्ट्रौंग हमारे आराध्य नही, प्रत्युत हमारे प्रतियोगी और ईर्ष्या-इष्ट थे. नाहि सुप्तस्य सिन्हस्य प्रविशंति मुखे मृगा से प्रेरित मैंने नासा को अपनी इच्छा का सुविचारित पत्र भेजा और मेरी खुशी का ठिकाना न रहा जब नासा ने अपनी चंद्रयात्रा के अभियान मे मेरा चयन कर तय तिथि को आने की ताकीद कर दी. इस प्रसंग मे मुझे प्रदत्त प्रशिक्षण के वृतांत वर्णन से बचते हुए मै सीधे अपनी यात्रा की ओर बढता हूं.
यह अत्यंत सुखद क्षण था जब मेरी कल्पना(चावला) की आत्मा सजीव हो उठी और मैंनें अपने सहयात्री  के  साथ यान मे  प्रवेश  किया. पलायन वेग के साथ यान को वैज्ञानिकों ने उपर फेंका. पृथ्वी के वायुमंडल को चीरते हुए यान अंतरिक्ष मे कुदने को तत्पर हुआ और मैं धरती माता के मोह के गुरुत्व-बंधन से अपने को मुक्त करता हुआ मातुल लोक की ओर लपका.यान का वेग मेरी भावनाओं  के  प्रबल  आवेग  के  साथ  अद्भुत साम बिठाये था और मैं  शनैः शनैः भारहीनता की हालत मे खुशियों  के गोते  लगाने  लगा.
मानों मेरी उत्कण्ठित भावनाओं  ने मेरे समग्र द्रव्यमान को उत्साह और अधीरता की असीम ऊर्जा मे परिणत कर दिया हो. आइंसटीन द्वारा प्रतिपादित मात्रा-वेग –ऊर्जा  समीकरण स्वतःसिद्ध साबित होने लगा था.
उधर पृथ्वी की प्रयोगशाला मे बैठे मेरे वैज्ञानिक चाचा मेरे यान की प्रत्येक गतिविधि को संचालित कर रहे थे. साथ मे कुछ प्रयोग भी संचालित किये  जा रहे थे. धरती धीरे धीरे गोल गेंद दिखने लगी जिसकी आकृति भी छोटी होती जा रही थी. इधर अंतरिक्ष के नीले घट मे तेजी से डूबते मेरे यान ने तकरीबन तीन दिन तेरह घंटे बाद चंद्रमा के मंडल मे प्रवेश किया जहां से अपने सहयात्री के संग एक लघु यान के सहारे मैंनें चंद्रमा के सतह का स्पर्श किया. मेरे पैर चांद पर थे. विचारो ने विश्राम ले लिया. भावनायें  निःशब्द  हो गयी  और  मै अवाक!
अब मैं अपनी  जन्मभूमि से तीन लाख चौरासी हज़ार चार  सौ  बीस  किलोमीटर की दूरी पर ठीक उसी जगह अपने पदचिन्हो को आरोपित कर रहा था, जहां नील साहब सहित बारह अन्य चन्द्रयात्रियों के पदछाप साफ साफ दीख रहे थे. चंद्रमा पर न कोइ वायुमंडल है न हवाओं का अत्याचार. इसलिये वहां वायु के द्वारा भूक्षरण की प्रक्रिया का नामो निशान नही है. सम्भवतः इसी कारण आने वाली सदियों  तक ये सारे चरण चिन्ह ऐसे ही अपने मूल स्वरूप  मे संरक्षित  रहेंगे.और यह बात हमारे लिये अद्भुत रोमांच  का विषय  था.
अपने चार दिवसीय चारु चंद्रवास की  अवधि  मे  मैने चंद्रमा की  सतहों पर एक विशेष वाहन मे सैर का  भरपुर  लुत्फ  उठाया. इस दौरान  काफी शोधपरक  तथ्यों  को  भी  एकत्रित  किया. चंद्रमा की उत्पति किसी प्रबल  आवेग वाले  खगोलीय पिंड के पृथ्वी  के सतह से आज से करीब साढ़े चार बिलियन वर्ष पुर्व टकराने के  फलस्वरुप हुई थी. इस कारण पृथ्वी के अंदर के लौह द्रव्यों का अनुपात चंद्रमा के हिस्से कम ही पड़ा. यही कारण है कि चंद्रमा की सतहों  पर  रेतीले चट्टानों की  बहुतायत है.  ऐसा प्रतीत होता है  कि  शुरुआती दिनों  मे  ही कोई तीव्र वेग  वाले  पिंड  के चांद की सतह से टकराहट हुई होगी और इस संघट्ट से कुछ लावा  छलका होगा जो  कलांतर मे जमने  की प्रक्रिया के  दौरान गढ्ढ़े मे  तबदील हो  गया और  इसकी अभिव्यंजना मुक्तिबोध ने इन शब्दों मे की— चांद  का मुंह टेढ़ा है’. अब सम्भवतः शीतकरण  की  प्रक्रिया पूर्ण हो  गयी  है और  चंद  का मुंह और ज्यादा टेढ़ा  होने की गुंजाइश शेष  न  रही.
पृथ्वी के उपरी सतह की भांति चंद्रमा का बाह्य  कवच  भी  औक्सीजन और सिलिकन की बहुलता  से  परिपूर्ण है. इसके टेढ़े मुंह का एक और  कारण विदित हुआ कि पृथ्वी की  ओर  वाले  सतह की मुटाई १०० मील और पृथ्वी से दूर वाले सतह  की मुटाई ६० मील है. इसका  कारण पृथ्वी के गुरुत्व के कारण चांद की सतह  का पृथ्वी  की  ओर  खींचाव  है. एक और  रोचक तथ्य प्रकाश मे  आया कि चंदा मामा हमारी धरती से चार सेंटीमीटर प्रति वर्ष की दर से दूर होते जा रहे हैं. विलगाव  की ये  प्रक्रिया पचास  बिलियन वर्षों  तक  चलेगी. विरह  की इस व्यथा की वेदना मे हमारी धरती अपनी तय उम्र सीमा पांच बिलियन वर्ष मे ही दम  तोड़  देगी.भाई से  अलग होने के दुख मे बहन के असमय प्राणांत की इस वैज्ञानिक व्याख्या से मन व्याकुल  हो  उठा.
जब भाई चांद अपनी बहन पृथ्वी से निकटतम दूरी पर  होता है, बहन की भावनायें हिलोरें लेती है और उसकी छाती पर समुंदर मे ज्वार  उठने लगते हैं. भावनाओं  की ज्वार  भाटा की वैज्ञानिक मीमांसा भारतीय मान्यताओं को पुष्ट करती हैं.
चंदा मामा सुरज की ज्योति  से  ही  ज्योतित  होते  हैं. ये अपनी बहन  धरती  के  नैसर्गिक  प्रेम के  गुरुत्व  बंधन  मे  बंधकर  उसकी परिक्रमा लगभग साढे सत्ताइस दिनों  मे पूरी  करते  है.  इस  अवधि  को  एक  चंद्रमास  कहते  हैं.
इस दौरान एक बार मिलन की प्रसन्नता की आभा से इनका समग्र स्वरुप देदीप्यमान हो  उठता है जिससे वसुंधरा बहन पूनम की रात के  रुप मे सुसज्जित होती है. फिर एक समय  आता है  जब चंद्रमा प्रकाशहीन होता है और वसुधा पर अमावस की उदासी छा जाती है.
स्वयं अल्प गुरुत्व होने  के  करण वायुमंडल मे तैरते कणों को बांध कर थामे रखने की क्षमता से हीन  है चंद्रमा. इसलिये  इसका कोइ  वायुमंडल नही. फलस्वरुप प्रकाश  के  परावर्तन,  अपवर्तन, विष्फरण या छिटकने जैसी कोइ क्रिया यहां नही होती. यही  कारण है  कि  इसकी  सतहों  पर  घोर  तमस  का साम्राज्य रहता है.
चंद्रमा का गुरुत्व पृथ्वी के  गुरुत्व का मात्र  सत्रह  प्रतिशत  है. पृथ्वी पर बत्तीस किलो का वजन यहां मात्र साढ़े  पांच  किलो  होता है. ये हुई न बिना व्यायाम के वजन घटने का विलक्षण संजोग!
अंधकार के साये मे लिपटे , अल्प गुरुत्व वाले रेतीले चट्टान पर न हवाओं का शोर, न वनस्पति की झुमर और न प्रवहमान धारा का कलकल छलछल संगीत. अम्बर के  प्रशस्त  प्रांगण मे अपनी प्रणय रंजित रजत  चांदनी का चंदोवा छाकर नीलांक विहार करने वाले चंदा मामा का अंतस कितना शुष्क , नीरस और तमोमय है, इसका भान होते ही आंखे छलछला गयी. यहीं कारण शायद  रहा हो  कि  हलाहल पान कर विश्व कल्याण करनेवाले नीलकण्ठ ने इन्हे शिरोधार्य किया और शशिशेखर कहलाये. भले ही रजनीश की इस सरलता का उपहास लोककवि  तुलसी ने  यह  कहकर उड़ा दिया कि – यमाश्रितो हि वक्रोअपि चंद्रः सर्वत्र वंद्यते
समय एक क्षण विश्राम नहीं लेता. हम नासा से प्राप्त निर्देशों  के  अनुसार आवश्यक शोधपरक सामग्री और जानकारी एकत्रित किये जा रहे थे. सौर वायु , मृदा संरचना , चंद्रमा की सतह की बनावट से जुड़े ढ़ेर सारी प्रयोग  सामग्री, वहां के चुम्बकीय क्षेत्र से सम्बद्ध प्रायोगिक तथ्य, चंद्रमा एवम सूर्य की भिन्न भिन्न कलाओं का पृथ्वी पर प्रभाव . पृथ्वी के अक्ष के झुकाव में चंद्रमा का योगदान, चंद्रमा और ऋतु परिवर्तन और ऐसे अनेक महत्वपूर्ण बिंदुओं की जॉच परख एवम उनके संगोपांग अध्ययन के परितः हमारी गतिविधियां केंद्रित थी.  

इन चार दिनों के चंद्र प्रवास में मेरे मनोवैज्ञानिक अवयवों को एक त्रासदीपूर्ण संक्रमण का सामना करना पड़ा. जैसे जैसे तथ्यों से सक्षातकार होता रहा , मेरे हृदय के गह्वर मे संजो कर सजाये गये चांद मामा शनैः शनैः इस सौरमंडल के पांचवे सबसे बड़े प्राकृतिक उपग्रह में परिवर्तित होते  जा  रहे  थे. इस मानसिक व्याघात ने हृदय में एक अव्यक्त आंदोलन को स्फुरित  कर  दिया था. इस चंद्र विजय ने मेरी कल्पनाओं की निर्झरिणी को रसहीन कर दिया था. चंदा पर रचे गये वे गल्प, वो कथा कहानियां , वे गीत, वो कवितायें, वो साहित्य सामग्रियां और उनसे निःसृत सुधा रस – इन सबको उस रेतीले चट्टान पर पसरा तमिस्त्र मुंह चिढ़ा रहा था .चंदा मामा की गोद में ही बौद्धिकता के धरातल  पर मेरे मामा मुझसे विदा ले  रहे  थे और मै भी वापस अपने यान में बैठकर अश्रूपुरित पलकों  संग पृथ्वी वापस लौट रहा था. अब मै अंतरीक्ष मे चंदा से काफी दूर आ गया था. फिर राकेश अपनी समस्त कलाओं  को  सहेजकर अपने वैभव की पराकाष्ठा पर आसीन हो  चुके  थे. दुधिया चांदनी की अमृत वर्षा हो  रही थी. तारक दल उधम  मचा रहे  थे. इस नयनाभिराम चंद्र भंगिमा का अवलोकन कर मेरे मन के चंदा मामा फिर  से जी उठे थे  और उनको समर्पित मेरी चिर संचित कोमल आत्मीय भावनायें मेरी नवजात बौद्धिकता को ताने मार  रही थी --- चार दिन की चांदनी , फिर अंधेरी रात !
                                 -----विश्वमोहन
    

जय सचिन, जय जय सचिन

षोडस के कोमल वय में ही
पाकिस्तान मे प्रथम प्रदर्शन,
प्रतिद्वंदी हो गये थे मुर्च्छित
थम गयी थी हर दिल की धड़कन.

चमत्कृत सारा भुवन है
यह तो कोई धुमकेतु है,
आर्यपुत्र क्रीड़ा गौरव यह
खेल जगत का महासेतु है.

चक्रव्यूह चाणक्य सा रचता
शौर्य-कला का चंद्रगुप्त है,
बल्ले से कर करे सुशोभित
देख विपक्षी हुआ सुप्त है.

विश्वविजय के अरुण केतन को
थामे यह कौन वीर पुत्र है,
किंवदंती और कालजयी यह
या क्रिकेट का मूल सूत्र है.

पवनपुत्र यह, सूर्यपुत्र यह
धर्मयुद्ध का शंख बजाये,
सागर पार वार कर आये
भारत मां की शान बढ़ाये.

जग में जन जहां भी जाते
पाते कण कण कीर्त्ति गाते,
ब्रेड्मैन, सोबर्स सब इसके
कर दर्शन न कभी अघाते.

कर अतिक्रमण कुल कीर्त्तिमानों का
रच दिया लाल ने नया सोपान,
वानखेड़े के प्रशस्त प्रांगण में
गुंज  रहा  है  रजत गान.

आज हिमालय नत मस्तक है
थम गयी है लहरें सागर की,
नयनों में मय नीर आज छलके
करें  विदायी  तेंदुलकर  की.

प्रशस्ति को शब्द भी तरसें
भाव निःशब्द, भाषा है दीन,
आओ  भारतवंशी  गायें
जय सचिन, जय जय सचिन.
-----------------विश्वमोहन


तू मेरा विश्वास कर ले

कसकर कमर जीवन समर में,
हास और उल्लास भर ले .
सुन हृदय की बात, प्रियतम,
तू मेरा विश्वास कर ले.

न प्रवंचना, न मिथ्यावादन,
और न विश्वासघात रे.
कविता मेरी कवच कुंडल,
वक्र विघ्न,  व्याघात से.

टूटे मन के कण कण को,
बड़े जतन से जोड़े ये.
काल दंश से आहत हिय को
और भला क्यों तोड़े ये.

शब्दों की संजीवनी सरिता,
करती है सिंचित उर को.
भावों की निर्मल जलधारा
भरती है अंतःपुर को.

छंदों के स्वच्छंद सुरों से,
व्याकुल दिल को बहलाता हूं.
रुग्ण हृदय की व्यथा को हरकर,
फिर कविता से नहलाता हूं.

थकित,भ्रमित हृदय में जाकर,
ऊर्जा की ज्योति जलाता हूं.
उठो पार्थ, गांडीव सम्भालो’,
का अमृत अलख जगाता हूं.

अर्जुन संज्ञाशून्य न होना,
कुरुक्षेत्र की धरती पर.
किंचित घुटने नहीं टेकना,
जीवन की सूखी परती पर.


सकने भर जम कर तुम लड़ना,
चाहे हो किसी की जीत.
अपने दम पर ताल ठोकना,
गाना हरदम विजय का गीत.

 ‘मा क्लैव्यं, उत्तिष्ठ परंतप
काल निशा का नाश कर ले.
सर्वानधर्मान  परित्यज्य,  
विश्वरुप का भाष कर ले.

मैं पुरुष हूं, तू प्रकृति है,
चिर-योग का अभ्यास कर ले.
सुन हृदय की बात, प्रियतम,
तू मेरा विश्वास कर ले.

------------------ विश्वमोहन 

जा पिया! (सुहागन का समर घोष)

जा पिया , तु जा समर में,
आतंकियों के गह्वर में.
प्रलय का उत्पात मचा दे.
छोड़, मेरे आंसूओं मे क्या रखा है?

आज वतन की माटी में हैं सिरफिरे फिर उतर आये,
भारत-माता के वसन को, देख कहीं वो कुतर न जाये.
लगे चिर में चीर इससे पहले उनको चीर दो,
छिन्नमस्तिके, रौद्र-तांडव मचा, बचा कश्मीर लो,
लगे माटी लाल, शत्रु-शोणित का सुस्वाद चखा है.
छोड़, मेरे आसूंओं में क्या रखा है.

आज विधना ने अचानक कौन सा है चित्र उकेरा?
जीवन-रण में काल खड्ग से टकरा गया तलवार तेरा.
समर के इस विरल पल मे गुंजे अट्टाहास तेरा,
कालजयी, पराक्रमी-परंतप, अरि-दल बने ग्रास तेरा.
टूटना पर झुक  न जाना, तु याद  कर मेरा सखा है.
छोड़, मेरे आंसूओं में क्या रखा है?

चूड़ी-बिंदी,नथ-टीका,पायल का श्रृंगार मेरा.
कुमकुम, सुहाग सिंदुर से सुसज्जित सात फेरा,
और,जीतिया, तीज, करवा-चौथ का त्योहार मेरा,
मातृभूमि की वेदि पर, आज मांगे दान तेरा.
अरिहंते, विजय-मन्नत का मैंनें उपवास रखा है,
छोड़, मेरे आंसूओं में क्या रखा है?

जा पिया , तु जा समर में,
संतति ये रक्तबीज के,
काल-चंडी को नचा दे.
छोड़, मेरे आंसूओं मे क्या रखा है?

          ----------- विश्वमोहन

Apology


God, forgive me for
I did not pay you the heed.
I kept turning blind eye to
what, in essence, is the eternal need.

Better I had followed your advice
Not insisting for this world of vice.
Not lured to this worldly race,
Not condemned to being stripped off your grace.

Not got ensnared to the mesh of desire,
Peace of inner self consigned to the profane fire.
And now dumped into the cesspool
Of hate, hanker, filth and greed.

O my all embracing Almighty,
Please tell, why not me paid you heed.
Fools learn not from their mistakes,
Wise earn from others experiences.



The poor me having now tasted the truth
Has blended You to my inner senses.
I must rid me now from the archaic tweet,
‘Who forget the past is condemned to repeat’.

O my father, free me from this nitty gritty,
Take me to your lap of eternity.
Drag me out of the pool of this mundane greed,
Shower the benign Grace on your ignorant kid.

Want nothing my lord, call me back instead,
Pray you my All, will ever internalize your heed.
Bestow upon me gradually the heavenly nap
O my Entity, fold me to your unfolding lap.
                                                                   ----vishwamohan